Logo and Menue

Vastu Tips : अगर आप भी चाहते हैं कि आपकी दुकान खूब चले तो इन वास्तु नियमों का रखें ध्यान


Vastu Tips For Shop : अगर आपकी दुकान लाख कोशिशों के बावजूद भी नहीं चल रही है और काम-धंधा ठप्प पड़ा हुआ है तो आपको एक बार अपने दुकान के वास्तु दोष पर जरूर नजर दौड़ानी चाहिए. कुछ लोगों की तो शिकायत होती है कि उनकी अच्छी खासी चलती दुकान को किसी की नजर लग गई. आज हम बात करेंगे दुकान से जुड़े जरूरी वास्तु नियम की। आइए जानते हैं दुकान से जुड़े कुछ जरूरी वास्तु नियम जिसे अपनाकर व्यवसाय में मनचाहा लाभ मिल सकता है।

1. वास्तु के अनुसार यदि आपकी दुकान आगे की ओर से बड़ी और पीछे की ओर से छोटी हो तो यह अत्यंत ही शुभ मानी जाती है. इसी प्रकार चारों कोनों से एक समान लंबाई चौड़ाई वाली दुकान भी शुभ मानी जाती है और ऐसी दुकान में कारोबार करने पर मनचाहा लाभ प्राप्त होता है. वास्तु के अनुसार शुभता और लाभ प्राप्ति के लिए हमेशा दुकान के आगे का भाग चौड़ा ही रखना चाहिए.

2. वास्तु के अनुसार दुकान में हमेशा व्यवसायी को पूर्व दिशा की ओर कुछ इस तरह से बैठना चाहिए कि सामान बेचते समय उसका मुख उत्तर दिशा की ओर रहे. वास्तु के अनुसार इस उपाय को करने पर दुकान में धन का आगमन लगातार बना रहता है.

3. वास्तु के अनुसार दुकान में खड़े या फिर बैठे सेल्स मैन का हमेशा मुंह पूर्व या फिर उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए.

4. वास्तु के अनुसार दुकान के मालिक को कभी भी किसी बीम के नीचे नहीं बैठना चाहिए और न ही वहां पर कैश बॉक्स बनाना चाहिए. यदि किसी कारण से यह संभव न हो पाए तो आप उस बीम के नीचे एक बांसुरी लटका दें.

5. वास्तु शास्त्र में दुकान का मेन गेट सबसे महत्वपूर्ण माना हैं. इसी द्वार से लक्ष्मी का आगमन होता है. कहते हैं दुकान का मेन गेट हमेशा पूर्व या उत्तर पूर्व में ही बनवाना चाहिए. इससे बिजनेस में दिन दुनी रात चौगुनी तरक्की होती है.

6. वास्तु जानकारों के अनुसार दुकान को हमेशा साफ-सुथरा रखना चाहिए. रोजाना धूप-बत्ती करनी चाहिए. इससे मां लक्ष्मी का वास होता है.

7. वास्तु के अनुसार अगर बिजनेस में लगातार घाटा होते चले आ रहा है तो इसके लिए एक उपाय किया जा सकता है. इसके लिए आप तिजोरी में लाल कपड़े में कुछ सौंफ के दाने बांधकर रख दें. ऐसा करने से आपकी तरक्की होने लगेगा.

Disclaimer : यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है. इंडिया लिविंग न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है.

नोट : उक्त खबर इंडिया लिविंग न्यूज़ को सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हुई है। इंडिया लिविंग न्यूज़ इस खबर की अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं करता। अधिक जानकारी के लिए मुख्य संपादक से संपर्क करें

Leave a Comment