Advert

INDIA LIVING NEWS

Vastu Tips: Do not make these mistakes even by mistake in the bedroom, there can be a rift in the relationship between husband and wife.

Vastu Tips : बेडरूम में भूलकर भी न करें ये गलतियां, पति-पत्नी के रिश्तों में पड़ सकती है दरार


Vastu Tips : रिश्ते बेहद कीमती होते हैं और ऐसे लोग बेहद भाग्यशाली होते हैं, जो प्यारे से बंधन से बंधे होते हैं। ऐसी मान्यता है कि परिवार में एक साथ खुश रहना चाहते हैं, तो ऐसा वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करके किया जा सकता है। वास्तु के अनुसार, वैवाहिक जीवन में खुशियां और सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखने के लिए घर के बेडरूम का ध्यान रखना भी बेहद ही जरूरी है। तो आइए आज जानते है कि वास्तु के अनुसार घर का बेडरूम कैसा होना चाहिए और किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. वास्तु के अनुसार, घर के बेडरूम हमेशा दक्षिण-पश्चिम दिशा में बनवाना चाहिए।
2. वास्तु के नियमानुसार, घर के उत्तर-पूर्व दिशा में बेडरूम अशुभ माना जाता है। इसलिए कभी भी घर के बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होनी चाहिए।
3. ऐसी मान्यता है कि यदि घर का बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होती है, तो वैवाहिक जीवन में स्थिरता बनी रहती है। इसके साथ ही नींद भी अच्छी आती है।
4. बेडरूम में बेड को कभी बीम के नीचे नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जाओं का संचार होता है।
5. वास्तु शास्त्र के अनुसार, बेडरूम की दीवारों को हमेशा पेस्टल कलर से पेंट करवाना चाहिए। बेडरूम को इस रंग से कलर करवाने से माहौल शांतिपूर्ण रहता है।
6. वास्तु के अनुसार, बेडरूम में कभी भी काले रंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। काले रंग से नींद आने की समस्या होने लगती है।
7. वास्तु के नियमानुसार, अपने बेड के विपरीत दिशा में शीशा नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करने से नींद खराब होती है और हर समय बेचैनी होती है।
8. पति-पत्नी को सोते समय हमेशा अपने सिर को दक्षिण की ओर रखना चाहिए। इस तरह उत्तर से बहने वाली सकारात्मक चुंबकीय ऊर्जा, रक्त के प्रवाह में बाधा डाले या नींद को प्रभावित किए बिना आसानी से उनके शरीर में प्रवेश कर सकती है
9. शयनकक्ष में पूजा स्थल को कभी भी नियोजित नहीं किया जाना चाहिए। साथ ही अगर अटैच बाथरूम है, तो इसके दरवाजे को हमेशा बंद रखा जाना चाहिए। स्थान के अभाव में यदि मंदिर शयनकक्ष में ही बनाना पड़े, तो मंदिर के चारों ओर पर्दे लगा दें। इसके अलावा, शयनकक्ष के उत्तर-पूर्व दिशा में ही पूजास्थल होना चाहिए।

Disclaimer : यहां दी गई जानकारी ज्योतिष पर आधारित है तथा केवल सूचना के लिए दी जा रही है। इंडिया लिविंग न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय के एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लें।

नोट : उक्त खबर इंडिया लिविंग न्यूज़ को सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हुई है। इंडिया लिविंग न्यूज़ इस खबर की अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं करता। अधिक जानकारी के लिए मुख्य संपादक से संपर्क करें