INDIA LIVING NEWS

Jalandhar reached 15th rank due to lower death rate due to corona

DC घनश्याम थोरी – कोरोना मरीजों के इलाज में अगर प्राइवेट अस्पताल डिफॉल्टर हुए तो प्रशासन उन्हें कंट्रोल में लेकर खुद चलाएगा


जालंधर : कोरोना टेस्ट से लेकर इलाज के नाम पर मरीजों को लूट रहे प्राइवेट अस्पतालाें को अल्टीमेटम जारी हो गया है। शुक्रवार को DC घनश्याम थोरी ने कहा कि जल्दी ही कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे प्राइवेट अस्पतालों का ऑडिट किया जाएगा। अगर कहीं गड़बड़ी मिली तो एपिडेमिक एक्ट के अधीन हमारे पास पावर है, हम ऐसे अस्पताल को टेकओवर कर सकते हैं। अस्पतालों के खिलाफ लगातार बढ़ रही शिकायतों के बाद उन्होंने कहा कि अगर अस्पताल डिफॉल्टर हुए तो प्रशासन उन्हें कंट्रोल में लेकर खुद चलाएगा।

उन्होंने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना रोगियों व उनके परिजनों की मजबूरी का फायदा नहीं उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लगातार ऐसी शिकायतें मिल रही हैं कि प्राइवेट अस्पताल सरकार के तय रेट से ज्यादा की वसूली कर रहे हैं। कोरोना इलाज में जहां डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ दिन-रात जान जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं, वहीं कुछ लोग उनकी छवि को खराब कर रहे हैं। जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

DC घनश्याम थोरी ने लोगों से अपील की कि अगर कहीं प्राइवेट अस्पताल ने उनसे कोरोना इलाज के ज्यादा रुपए लिए हों तो सेहत विभाग को 104 नंबर पर शिकायत करें। इसके अलावा उनके ऑफिस के हेल्पलाइन नंबर 0181-2224417 और वॉट्सऐप नंबर 9888981881, 9501799068 पर भी शिकायत कर सकते हैं।

 

 

source link

नोट : उक्त खबर इंडिया लिविंग न्यूज़ को सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हुई है। इंडिया लिविंग न्यूज़ इस खबर की अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं करता। अधिक जानकारी के लिए मुख्य संपादक से संपर्क करें