INDIA LIVING NEWS

Latest news
घोड़े की नाल का छल्ला पहने , शनि देव चमाकाएंगे किस्मत; पैसों की नहीं होगी कमी, भरी रहेगी जेब यूट्यूबर लिव-इन जोड़े ने सातवीं मंजिल से छलांग लगाकर दी जान Loksaba Election 2024 : शिरोमणि अकाली दल ने जारी की उम्मीदवारों की पहली लिस्ट पंजाब सरकार एक्शन में, स्कूलों के लिए जारी कर दिए सख्त Order खालसा साजना दिवस पर माथा टेकने जा रहे श्रद्धालुयों की ट्रैक्टर ट्राली पलटी, दो लोगों की मौत Laddu Gopal : क्या आपके घर में भी हैं लड्डू गोपाल, तो इन नियमों का रखें ख़ास ख्याल सोने की कीमत पहुंची रिकॉर्ड स्तर पर, प्रति 10 ग्राम के लिए खर्चने पड़ेंगे इतने रूपए बड़ी खबर : 15 करोड़ की हैरोइन सहित कुख्यात जयपाल भुल्लर गैंग के साथी को पुलिस ने किया गिरफ्तार Jalandhar : AIG नरेश डोगरा की माता उषा रानी जी का हुआ देहांत, कल होगा अंतिम संस्कार Swiggy की अनोखी सर्विस, पानी पर भी शुरू की फूड डिलीवरी,श्रीनगर की डल झील में हाउसबोट पर भी लीजिये खा...
DC Ghanshyam Thori set up team to stop hoarding and black marketing of oxygen, action will be taken against the users without approval

डीसी घनश्याम थोरी ने आक्सीजन की जमाखोरी व कालाबाजारी रोकने के लिए की टीम गठित, बिना मंजूरी इस्तेमाल करने वालों पर होगी कारवाई


जालंधर (अनुराग ) : डीसी घनश्याम थोरी ने आक्सीजन के उचित प्रयोग को यकीनी बनाने के लिए टीम का गठन किया है। उन्होंने आक्सीजन की सप्लाई सुचारू ढंग से चलाने के अलावा जमाखोरी व कालाबाजारी रोकने के लिए 24 घंटे निगरानी करने के आदेश दिए। इसके लिए डिप्टी कमिश्नर (आबकारी और जीएसटी) को अपने आधिकारियों की विशेष टीमों का गठन करने के लिए कहा है। ये टीमें अस्पतालों में जाकर आक्सीजन गैस की उपलब्धता और सप्लाई की जांच करेंगी। डीसी ने अस्पतालों को आक्सीजन कसंट्रेटर खरीदने और पीएसए आधारित आक्सीजन प्लांट लगाने की अपील करने की भी हिदायत की।

पुलिस अधिकारियों को आक्सीजन सिलेंडर ले जाने वाले वाहनों की चेकिंग के निर्देश दिए गए, चाहे यह सप्लाई अस्पताल को जा रही हो या अन्य संस्थान को। यदि वाहन सहायक कमिश्नर हरदीप सिंह और डिप्टी डायरेक्टर स्थानीय निकाय सरकार विभाग दरबारा सिंह से बिना लिखित मंजूरी के उद्योगों को आक्सीजन गैस की सप्लाई करते हुए देखा गया तो सख्त कार्रवाई होगी।

गौर हो कि मरीज बढ़ने से जालंधर में आक्सीजन की किल्लत आने लगी है। हालांकि अभी प्राइवेट कंपनियों के सहयोग या दूसरे शहरों से सिलेंडर मंगवाकर डिमांड को पूरा किया जा रहा है लेकिन रफ्तार नहीं थमी तो दिल्ली जैसे हालात पैदा हो सकते हैं। इस कमी को जिला प्रशासन ने भी स्वीकार किया है और सरकार को पत्र भी लिखा है।

 

source link

Disclaimer - उक्त खबर इंडिया लिविंग न्यूज़ को सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त हुई है। इंडिया लिविंग न्यूज़ इस खबर की अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं करता। अगर इस खबर से किसी वर्ग को आपत्ति है , तो वह इंडिया लिविंग न्यूज़ से संपर्क कर सकता है। www.indialivingnews.in